Breaking NewsDelhiSocial

फेक न्यूज रोकने के लिए वैरिफाइड न्यूज ईकोसिस्टम को मिले बढ़ावा, इंटरनेट बने सभी के लिए सुरक्षित

न्यूज, पब्लिशर्स और एसोसिएशंस डिजिटल मीडिया की ग्रोथ को बढ़ावा देने और देश में डिजिटल न्यूज का ईकोसिस्टम बनाने के लिए है। डीएनपीए को बनाने का सिर्फ एक ही मकसद है, वह यह कि डिजिटल न्यूज ईकोसिस्टम को प्रमोट किया जाए...

दिल्ली :-भारतीय मीडिया में लगातार बदलते परिदृश्य को देखते हुए डिजिटल न्यूज पब्लिशर्स एसोसिएशन (DNPA) ने मंगलवार को डीएनपीए कॉन्क्लेव एंड अवार्ड्स 2024 का आयोजन किया। राजधानी के शांगरी-ला होटल में आयोजित हुए इस कार्यक्रम में इंडस्ट्री के दिग्गज शामिल हुए।

कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्रालय और इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने कहा, डिजिटल मीडिया का दायरा बहुत बड़ा है। ज्यादा से ज्यादा लोगों तक सबसे पहले सूचनाएं इसी प्लेटफार्म से पहुंचती हैं। सरकार ने आईटी के जो नए कानून बनाए हैं, वे सभी उपभोक्ताओं को ध्यान में रखकर बनाए हैं। हमारी सरकार इंटरनेट को सुरक्षित  जगह बनाना चाहती है, ताकि किसी भी प्रकार के अपराध से बचा जा सके। इंटरनेट प्लेटफॉर्म जो लोगों का डाटा उपयोग करना चाहते हैं वो डाटा तो ले सकेंगे लेकिन उन्हें उसे इस्तेमाल करने के बाद उसे खत्म भी करना होगा। जो प्लेटफॉर्म ऐसा नहीं करेंगे, उन पर कार्रवाई की जाएगी। हम भारत में सुरक्षित AI चाहते हैं, जो पूरी तरह से सुरक्षित हो। सरकार चाहती है कि इंटरनेट सभी के लिए ओपन हो। किसी का एकछत्र राज न हो। एक लाख करोड़ का बजट शोध और नवाचार के लिए रखा है, ताकि हम नई प्रतिभा को आगे ला सकें।

 न्यूज, पब्लिशर्स और एसोसिएशंस डिजिटल मीडिया की ग्रोथ को बढ़ावा देने और देश में डिजिटल न्यूज का ईकोसिस्टम बनाने के लिए है। डीएनपीए को बनाने का सिर्फ एक ही मकसद है, वह यह कि डिजिटल न्यूज ईकोसिस्टम को प्रमोट किया जाए। इसकी मदद से वैरिफाइड न्यूज कल्चर को प्रमोट किया जाए। साथ ही, फेक न्यूज को रोका जाए। सही और वैरिफाइड न्यूज ईकोसिस्टम हमारे लोकतंत्र का मूलभूत आधार है। ऐसे में हमें अपना पूरा प्रयास इस ईकोसिस्टम को विकसित करने में लगाना चाहिए। हमने ये सुनिश्चित किया कि लोगों तक अच्छा कंटेंट पहुंचे, चाहे वह टेक्स्ट फॉर्मेट में हो या फिर ऑडियो या वीडियो फॉर्मेट में। आज इस कार्यक्रम में देश के जाने माने मीडिया संस्थानों के लोग मौजूद हैं। डीएनपीए परिवार का अहम हिस्सा होने के नाते हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि अपने नैतिक मूल्यों से हम कभी समझौता नहीं कर सकते हैं। हमारी सरकार भी तेजी से डिजिटल के क्षेत्र में काम कर रही है। यही वजह है कि आज पूरी दुनिया में हमारी डिजिटल ताकत की चर्चा है।

उन्होंने आगे कहा कि आज इंटरनेट पर आधे से ज्यादा पर जानकारियां हैं। सोचिये अगर कोई युवा किसी भी जानकारी के लिए इंटरनेट पर जा रहा है और वहां वह गलत या फेक जानकारी के जाल में फंस जाएगा, तो फिर क्या होगा? साल 2020 के एक डाटा के मुताबिक फेसबुक पर 1.8 मिलियन इंगेजमेंट गलत खबरों का आया है। कोविड-19 को लेकर 18 मिलियन लेख इंटरनेट पर डाले गए हैं। कल्पना कीजिए कि आज दुनिया अगर बगैर न्यूज के हो, तो क्या होगा। विश्व ऐसा दिन कभी नही देखना चाहेगा। हम सभी मिलकर ऐसा काम करें, जो सच्चाई के रास्ते पर लेकर जाए।

Khabar Abtak

Related Articles

Back to top button